नंदकिशोर आचार्य को साहित्य अकादमी पुरस्कार किसके लिए मिला?

(A) छीलते हुए अपने को
(B) वह एक समुद्र था
(C) रेतराग
(D) आती है मृत्यु

Question Asked : Rajasthan Assistant Professor 2020
Answer : छीलते हुए अपने को
Explanation : नंदकिशोर आचार्य को साहित्य अकादमी पुरस्कार उनके कविता संग्रह 'छीलते हुए अपने को' के लिए मिला। नंदकिशोर आचार्य हिन्दी के सुप्रसिद्ध साहित्यकार हैं। तथागत (उपन्यास), अज्ञेय की काव्य तितीर्षा, रचना का सच और सर्जक का मन (आलोचना) देहांतर और पागलघर (नाटक), जल है जहां, वह एक समुद्र था, शब्द भूले हुए, आती है मृत्यु (कविता संग्रह) उनकी प्रमुख रचनाएं हैं। उन्हें राजस्थान साहित्य अकादमी के सर्वोच्च मीरा पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। इनके कविता संग्रह 'छीलते हुए अपने को' साहित्य अकादमी पुरस्कार (हिंदी) (2019) के लिए चुना गया था। साहित्य अकादमी पुरस्कार वर्ष 1954 में स्थापित, एक साहित्यिक सम्मान है। यह पुरस्कार साहित्य अकादमी द्वारा प्रतिवर्ष प्रदान किया जाता है। अकादमी द्वारा प्रत्येक वर्ष अपने द्वारा मान्यता प्रदत्त 24 भाषाओं में साहित्यिक कृतियों के साथ ही इन्हीं भाषाओं में परस्पर साहित्यिक अनुवाद के लिये भी पुरस्कार प्रदान किये जाते हैं। भारत के संविधान में शामिल 22 भाषाओं के अलावा, साहित्य अकादमी ने अंग्रेज़ी तथा राजस्थानी को भी उन भाषाओं के रूप में मान्यता दी है जिसमें अकादमी के कार्यक्रम को लागू किया जा सकता है।
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Nandkishor Acharya Ko Sahitya Academy Puraskar Kiske Liye Mila