सोम प्रदोष व्रत 2020 में कब है?

(A) 07 मार्च
(B) 20 अप्रैल
(C) 07 मार्च
(D) 20 नवंबर

Answer : 20 अप्रैल
Explanation : सोम प्रदोष व्रत 2020 में 20 अप्रैल को है। प्रदोष व्रत हर माह के शुक्ल और कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन पड़ते हैं। एक माह में दो प्रदोष पड़ते हैं। इस दिन भगवान शंकर की पूजा की जाती है। सोमवार के दिन जो प्रदोष व्रत पड़ता है वो सोम प्रदोष व्रत कहलाता है। आपको बता दे कि प्रदोष काल वह समय कहलाता है जिस समय दिन और रात का मिलन होता है। भगवान शंकर की पूजा एवं उपवास व्रत के विशेष काल और दिन रुप में जाना जाने वाला यह प्रदोष काल बहुत ही उत्तम समय होता है। इस समय की गई भगवान शिव की पूजा से अमोघ फल की प्राप्ति होती है। यह व्रत शत्रुओं पर विजय हासिल करने के लिए अच्छा माना गया है।

सोम प्रदोष व्रत कथा कुछ इस प्रकार है कि–एक नगर में एक ब्राह्मणी रहती थी, उसके पति का स्वर्गवास हो गया था। वह निराश्रय हो गई थी इसलिए सुबह से अपने पुत्र के साथ भीख मांगने निकल पड़ती थी। इस तरह से ही वह स्वयं व पुत्र का पेट पालती थी। एक दिन ब्राह्मणी को घर आते वक्त एक लड़का घायल अवस्था में मिला, ब्राह्मणी उसे अपने घर ले आई। वह लड़का विदर्भ का राजकुमार था, शत्रु सैनिकों ने उसके राज्य पर आक्रमण कर उसके पिता को बंदी बना लिया था और उसके राज्य पर नियंत्रण कर लिया था, इसलिए वह मारा-मारा फिर रहा था। राजकुमार ब्राह्मण-पुत्र के साथ ब्राह्मणी के घर रहने लगा। एक दिन अंशुमति नामक एक गंधर्व कन्या ने राजकुमार को देखा और उस पर मोहित हो गई। अगले दिन वह अपने माता-पिता को राजकुमार से मिलाने लाई। कुछ दिनों बाद अंशुमति के माता-पिता को शंकर भगवान ने स्वप्न में आदेश दिया कि राजकुमार और अंशुमति का विवाह कर दिया जाए, उन्होंने वैसा ही किया।
Tags : कब है
Related Questions
Web Title : Som Pradosh Vrat Kab Hai