बौद्ध धर्म का तिब्बत में प्रचलन कहां से किया गया?

(A) पाल वंश का राज्य
(B) हर्षवर्धन का राज्य
(C) कुषाण राज्य
(D) मौर्य राज्य

Question Asked : [RAS/RTS Opt History 2016]
Answer : पाल वंश का राज्य
तिब्बत में सातवी शताब्दी में स्त्रांग सनगम्पो नामक एक अत्यंत शक्तिशाली राजा हुआ जिसने मध्य एशिया पर आक्रमण कर वहां अपना अधिकार स्थापित कर लिया। उसी के समय में तिब्बत में बौद्ध धर्म का प्रचार प्रसार हुआ। भारत में पाल शासकों के शासन काल में विक्रमशिला विश्वविद्यालय, जिसकी स्थापना धर्मपाल ने की थी, एक ख्याति प्राप्त अंतर्राष्ट्रीय, विश्वविद्यालय बन गया। इसी विश्वविद्यालय के ​विद्यान दीपंकर ने तिब्बत में बौद्ध धर्म का प्रचार-प्रसार किया। भारत में इसी काल में अन्य अनेक विद्यान भी तिब्बत गये तथा उन्होंने तिब्बती भाषा में बौद्ध ग्रंथों का अनुवाद किया। ऐसे ग्रंथों में 'तंजूर' और कंजूर के नाम प्रसिद्ध हैं। अनेक तिब्बती यात्री भी भारत की यात्रा पर आये। तिब्बती चित्रकला में भारतीय धर्म का तिब्बत में अधिक प्रचार-प्रसार हुआ।
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी, प्राचीन काल भारत, मध्यकालीन भारत
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Baudh Dharm Ka Tibet Mein Prachalan Kahan Se Kiya Gaya