किस इतिहासकार ने ‘दीन-ए-इलाही’ को धर्म कहा?

(A) अबुल फजल
(B) अब्दुल कादिर बदायूंनी
(C) नियामुद्दीन अहमद
(D) उपरोक्त में से कोई नहीं

Question Asked : [Uttarakhand PCS (Pre) GS 2016]
Answer : अब्दुल कादिर बदायूंनी
अकरब ने 'दीने-ए-इलाही' को 1582 में स्थापित किया। बदायूंनीने कहा अकबर धीरे-धीरे इस्लाम से दूर हो गया है, उसने हिंदू, इसाई पारसी, इत्यादि धर्मों के आचार्य को बुलाकर, एक धर्म की स्थापना की जिसका नाम दीन-ए-इलाही रखा गया। बीरबल इस धर्म को अपनाने वाला एकमात्र हिंदू था। बतादें कि इस प्रकार के प्राचीन एवं मध्यकालीन भारतीय इतिहास से सं​बंधित प्रश्न अक्सर पूछे जाते है। जिसके उत्तरों भी कभी नहीं बदलते है। इसलिए अगर आप संघ एवं राज्य सिविल सेवा या राज्यस्तरीय किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे है, तो इन्हें अच्छी तरह से याद कर लें। ताकि गलती की कोई संभावना न रहें।
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी, प्राचीन काल भारत, मध्यकालीन भारत
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Kis Itihaskar Ne Deen E Ilahi Ko Dharm Kaha