चमचमात चंचल नयन, बिच घूंघट पर झीन में कौन सा अलंकार है?

(A) उत्प्रेक्षा अलंकार
(B) छेकानुप्रास अलंकार
(C) वृत्यनुप्रास अलंकार
(D) लाटानुप्रास अलंकार

Answer : उत्प्रेक्षा अलंकार
Explanation : चमचमात चंचल नयन, बिच घूंघट पर झीन। मानहु सुरसरिता विमल, जल उछरत जुग मीन।। पंक्ति में उत्प्रेक्षा अलंकार होता है। यहां झीने घूंघट में सुरसरिता के निर्मल जल की ओर चंचल नयनों में दो उछलती हुई म​छलियां की अपूर्व सम्भावना की गई है। उत्प्रेक्षा का यह सुन्दर उदाहरण है।
उत्प्रेक्षा अलंकार की परिभाषा – जहां उपमेय में उपमान की संभावना अथवा कल्पना कर ली गई हो, वहां उत्प्रेक्षा अलंकार होता है। इसके बोधक शब्द हैं– मनो, मानो, मनु, मनहु, जानो, जनु, जनहु, ज्यों आदि। सामान्य हिंदी प्रश्न पत्र में उत्प्रेक्षा अलंकार संबंधी प्रश्न पूछे जाते है। इसलिए यह प्रश्न आपके लिए कर्मचारी चयन आयोग, बीएड, आईएएस, सब इंस्पेक्टर, पीसीएस, बैंक भर्ती परीक्षा, समूह 'ग' आदि प्रतियोगी परीक्षाओं के अलावा विभिन्न विश्वविद्यालयों की प्रवेश परीक्षाओं के लिए भी उपयोगी साबित होगें।
Tags : अलंकार, अलंकारिक शब्द, उत्प्रेक्षा अलंकार
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Chamchamat Chanchal Nayan Bich Ghunghat Par Jheen Main Alankar