नृसिंह द्वादशी कब मनाई जाती है?

Answer : फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी को
Explanation : नृसिंह द्वादशी फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी को मनाई जाती है। वर्ष 2021 में यह पर्व 25 मार्च को है। भगवान विष्णु के 12 अवतार में से एक अवतार नरसिंह का माना जाता है। इस अवतार का आधा शरीर मनुष्य का और आधा शेर का है। इसी रूप को धारण करके विष्णुजी ने दैत्यों के राजा हिरण्यकश्यप का वध किया था। हिरण्यकश्यप ने कठिन तपस्या कर ब्रह्मा को प्रसन्न किया और अमर होने का वरदान मांगा। भगवान ने कहा कि यह उनके हाथ में नहीं है, इसलिए उनसे बड़ी चालाकी से वरदान प्राप्त किया कि न वह किसी मनुष्य द्वारा मारा जा सके न ही पशु द्वारा। न दिन में मारा जा सके न रात में। न घर के अंदर न घर के बाहर। न किसी अस्त्र के प्रहार से और न किसी शस्त्र के प्रहार से उसके प्राणों को कोई खतरा हो। यह वरदान प्राप्त होते ही वह लोगों को प्रताड़ित करने लगा। तब भगवान विष्णु ने नरसिंह रूप में प्रकट होकर। हिरण्यकश्यप का वध किया था।

नृसिंह द्वादशी पूजन विधि
इस दिन भगवान विष्णु के अवतार माने जाने नरसिंह स्वरूप की पूजा की जाती है। नरसिंह द्वादशी के दिन प्रातः काल उठकर स्नान आदि से शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र धारण करें। उसके बाद विधि-विधान से पूजा करें। पूजा में भगवान को फल, फूल, धूप, दीप, अगरबत्ती, पंचमेवा, कुमकुम, केसर, नारियल, अक्षत और पीतांबर अर्पित करें।
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
Related Questions
नवीनतम करेंट अफेयर्सजीके 2021 के लिए GKPU फ़ेसबुक पेज को Like करें
Web Title : Narsimha Dwadashi Kab Manai Jati Hai